शिक्षा का निस्यंदन सिद्धांत Filtration theory of Education फिल्ट्रेशन थ्योरी

शिक्षा का निस्यंदन सिद्धांत 

Filtration theory of Education

फिल्ट्रेशन थ्योरी

ब्रिटिश काल में ब्रिटिश शासन के दौरान लॉर्ड ऑकलैंड ने इस सिद्धांतों की पृष्ठभूमि तैयार की थी  

Shiksha ka nisyandan siddhant


इस सिद्धांत के तहत संकल्पना की गई कि भारतीयों की शिक्षा की एक ऐसी रूपरेखा तैयार की जाए जिसमें उच्च समूह या उच्च वर्ग को ही शिक्षा प्रदान की जाए जिससे स्वत ही निम्न वर्ग को उन से शिक्षा प्राप्त हो जाएगी क्योंकि यह सिद्धांत उच्च वर्ग को ही शिक्षा तैयार करने की पैरवी करता था  इसलिए इसे फिल्ट्रेशन थ्योरी कहा गया। 

एक सरकारी नीति के रूप में इस सिद्धांत को लॉर्ड ऑकलैंड ने लागू किया था क्योंकि इस सिद्धांत में चलकर शिक्षा प्रदान करने की व्यवस्था की गई थी जिसमें निम्न वर्ग को को शिक्षा के संदर्भ में कोई महत्वपूर्ण या विशेष लाभ नहीं प्राप्त हुआ इससे यह शिक्षा निम्न वर्ग को वंचित करने वाला सिद्ध साबित हुआ एवं यह योजना पूरी तरह से असफल हो गई।

फिल्ट्रेशन थ्योरी अपने आप में निम्न वर्ग के लिए एक अभिशाप साबित हुई क्योंकि इसमें निम्न वर्ग के लिए शिक्षा का कोई प्रावधान नहीं था। 

जब 1854 में वुड डिस्पैच योजना को लागू किया गया तो यह योजना पूरी तरह समाप्त हो गई।